Computer Language in Hindi | programming language in Hindi

दोस्तों यदि आपके भी मन में कुछ ऐसे प्रश्न जैसे- कंप्यूटर की भाषा का ऐतिहासिक विकास (Historical development of computer language), कंप्यूटर प्रोग्रामिंग लैंग्वेज (computer programming language), उच्च स्तरीय भाषा (high level language), प्रोग्रामिंग लैंवेज (programming language),  कंप्यूटर के भाषाओं के ऐतिहासिक विकास , प्रोग्रामिंग लैंग्वेज क्या है?(what is programming language?) आदि, तो इस सरे प्रश्न के जवाब के लिए आप सही जगह पर है। तो आइये जानते है इसके बारे में-

आम तौर पर, हम दो व्यक्तियों के बीच संचार करने के लिए अंग्रेजी, हिंदी, तेलुगू आदि जैसी भाषाओं का उपयोग करते हैं। इसका मतलब है, जब हम दो व्यक्तियों के बीच संचार करना चाहते हैं तो हमें एक ऐसी भाषा की आवश्यकता होती है जिसके माध्यम से लोग अपनी भावनाओं को व्यक्त कर सकें।

इसी तरह, जब हम उपयोगकर्ता और कंप्यूटर या दो या दो से अधिक कंप्यूटरों के बीच संचार करना चाहते हैं, तो हमें एक ऐसी भाषा की आवश्यकता होती है जिसके माध्यम से उपयोगकर्ता कंप्यूटर को जानकारी दे सके और इसके विपरीत ले सके।

जब उपयोगकर्ता कंप्यूटर को कोई निर्देश देना चाहता है तो उपयोगकर्ता को एक विशिष्ट भाषा की आवश्यकता होती है और वह भाषा Computer Language के रूप में जानी जाती है।

उपयोगकर्ता प्रोग्राम का उपयोग कर कंप्यूटर के साथ इंटरैक्ट करता है और प्रोग्राम सी प्रोग्रामिंग भाषाओं जैसे सी, सी ++, जावा इत्यादि का उपयोग करके बनाए जाते हैं।

कंप्यूटर के शुरुआती दिनों में, कार्यक्रमों को लिखने के लिए केवल बाइनरी भाषा का उपयोग किया जाता था, लेकिन वर्षों से, कंप्यूटर भाषा निम्न स्तर से उच्च स्तर की भाषाओं तक विकसित की गई है। Computer Language निम्नानुसार वर्गीकृत हैं …

निम्न स्तर की भाषा – मशीन भाषा (Low level language – Machine Language)

निम्न स्तर की भाषा ही एकमात्र भाषा है जिसे कंप्यूटर द्वारा समझा जा सकता है। बाइनरी भाषा निम्न स्तर की भाषा का एक उदाहरण है। निम्न स्तर की भाषा को मशीन भाषा के रूप में भी जाना जाता है। बाइनरी भाषा में केवल दो प्रतीकों 1 और 0 हैं। बाइनरी भाषा में सभी निर्देश बाइनरी संख्या 1 और 0 के रूप में लिखे होते हैं। कंप्यूटर सीधे बाइनरी भाषा को समझ सकता है। मशीन भाषा को मशीन कोड के रूप में भी जाना जाता है।

चूंकि सीपीयू सीधे बाइनरी भाषा निर्देशों को समझता है, इसलिए इसे किसी भी अनुवादक की आवश्यकता नहीं होती है। सीपीयू सीधे बाइनरी भाषा निर्देश निष्पादित करना शुरू करता है, और निर्देशों को निष्पादित करने में बहुत कम समय लगता है क्योंकि इसे किसी भी अनुवाद की आवश्यकता नहीं होती है। निम्न स्तर की भाषा को पहली पीढ़ी की भाषा (1 जीएल) माना जाता है।

फायदे(Advantages)

  • एक कंप्यूटर आसानी से निम्न स्तर की भाषा को समझ सकता है। 
  • एक कंप्यूटर आसानी से निम्न स्तर की भाषा को समझ सकता है। 

नुकसान(Disadvantages)

  • लो लेवल लैंग्वेज निर्देशों का उपयोग करना और समझना बहुत मुश्किल है। 
  • लो लेवल लैंग्वेज का निर्देश मशीन पर निर्भर हैं, इसका मतलब है कि किसी विशेष मशीन के लिए लिखा गया प्रोग्राम अन्य मशीन पर निष्पादित नहीं होता है। 
  • लो लेवल लैंग्वेज में, त्रुटियों के ज्यादा सम्भावना होता है और त्रुटियों, डीबग और संशोधित करना बहुत मुश्किल होता है। 

मध्य स्तर की भाषा – असेंबली भाषा (Middle Level Language – Assembly Language)

मध्य स्तर की भाषा एक कंप्यूटर भाषा(Computer Language) है जिसमें निर्देश पत्र, अंक और विशेष वर्ण जैसे प्रतीकों का उपयोग करके निर्देश बनाए जाते हैं।

असेंबली भाषा मध्य स्तर की भाषा का एक उदाहरण है। असेंबली भाषा में, हम पूर्वनिर्धारित शब्दों का उपयोग करते हैं जिन्हें निमोनिक्स (pneumonia) कहा जाता है। निम्न स्तर की भाषा में बाइनरी कोड निर्देशों को मध्य स्तर की भाषा में निमोनिक्स और ऑपरेंड (operand) के साथ प्रतिस्थापित (Replaced) किया जाता है। लेकिन कंप्यूटर निमोनिक्स को समझ नहीं सकता है, इसलिए हम निमोनिक्स का बाइनरी भाषा में अनुवाद करने के लिए असेंबलर नामक एक अनुवादक का उपयोग करते हैं।

असेंबलर एक अनुवादक है जो इनपुट के रूप में असेंबली कोड लेता है और आउटपुट के रूप में मशीन कोड उत्पन्न करता है। इसका मतलब है कि कंप्यूटर मध्यम स्तर की भाषा को समझ नहीं सकता है, इसलिए इसे कंप्यूटर द्वारा समझने योग्य बनाने के लिए इसे निम्न स्तर की भाषा में अनुवादित करने की आवश्यकता है।

असेंबलर का उपयोग निम्न स्तर की भाषा में मध्यम स्तर की भाषा का अनुवाद करने के लिए किया जाता है।

लाभ (एडवांटेज)

  • मध्यम स्तर की भाषा में लेखन निर्देश निम्न स्तर की भाषा में निर्देश लिखने से आसान है। 
  • निम्न स्तर की भाषा की तुलना में मध्य स्तर की भाषा अधिक पठनीय है। 

समझने में आसान, त्रुटियों को ढूंढें और संशोधित करने में आसान है 

नुकसान(डिसएडवांटेज)

  • मध्य स्तर की भाषा किसी विशेष मशीन आर्किटेक्चर के लिए विशिष्ट है, जिसका अर्थ है कि यह मशीन पर निर्भर है। 
  • मध्य स्तर की भाषा को निम्न स्तर की भाषा में अनुवादित करने की आवश्यकता है। 
  • निम्न स्तर की भाषा की तुलना में मध्य स्तर की भाषा धीमी गति से निष्पादित होती है। 

उच्च स्तर की भाषा (High Level language)

उच्च स्तरीय भाषा( हाई लेवल लैंग्वेज) एक कंप्यूटर भाषा है जिसे यूजर द्वारा समझा जा सकता है। उच्च स्तर की भाषा मानव भाषाओं के समान ही है और व्याकरण नियमों का एक सेट है जिसका उपयोग निर्देशों को अधिक आसानी से करने के लिए किया जाता है।

प्रत्येक उच्च स्तरीय भाषा में पूर्वनिर्धारित शब्दों का एक सेट होता है जिसे कीवर्ड और ज्ञात नियमों का एक सेट निर्देश बनाने के लिए सिंटैक्स (syntax) के नाम से जाना जाता है।

उच्च स्तर की भाषा उपयोगकर्ताओं (user) के लिए समझना अधिक आसान है लेकिन कंप्यूटर इसे समझ नहीं सकता है। कंप्यूटर द्वारा समझने योग्य बनाने के लिए उच्च स्तरीय भाषा को निम्न स्तर की भाषा में परिवर्तित करने की आवश्यकता है। हम उच्च स्तरीय भाषा को निम्न स्तर की भाषा में परिवर्तित करने के लिए कंपाइलर(compilers) या व्याख्याकर्ता (interpreters) का उपयोग करते हैं।

Cobol (कोबोल), Fortran(फोरट्रान), Basic (बेसिक), C (सी), C ++(सी ++), Java (जावा ) आदि जैसी भाषाएं उच्च स्तरीय भाषाओं के उदाहरण हैं। ये सभी प्रोग्रामिंग भाषाएं लिखने के लिए अंग्रेजी भाषा( मानव को समझने योग्य ) का उपयोग होती हैं। इन निर्देशों को संकलक द्वारा निम्न स्तर की भाषा में परिवर्तित कर दिया जाता है ताकि इसे कंप्यूटर द्वारा समझा जा सके।

फायदे (Advantages)

  • उच्च स्तर की भाषा में लेखन निर्देश अधिक आसान है। 
  • उच्च स्तर की भाषा अधिक पठनीय और समझ में आता है। 
  • उच्च स्तर की भाषा का उपयोग करके बनाए गए कार्यक्रम अलग-अलग मशीनों पर छोटे बदलाव या कोई बदलाव नहीं करते हैं। 
  • समझने में , प्रोग्राम बनाने, त्रुटियों को ढूंढने और संशोधित करने में आसान होता है। 

नुकसान (Disadvantages)

  • उच्च स्तर की भाषा को निम्न स्तर की भाषा में अनुवादित करने की आवश्यकता है। 
  • मध्यम और निम्न स्तर की भाषाओं की तुलना में उच्च स्तरीय भाषा धीमी गति से निष्पादित होती है।

disclaimer: इस आर्टिकल का प्रमुख उदेश्य शिक्षा प्रदान करना है। इस आर्टिकल के माध्यम से इस में दिए गए किसी भी वेबसाइट या अप्प के लिंक को बढ़ावा नहीं देता है.(The main purpose of this article is to provide education. Through this article, it does not promote links to any websites or apps given in it.)


Leave a Comment