With the help of AtStudy, information such as technology, general knowledge, math, how to, etc. can be easily taken. The information of the country and abroad is always updated here. And here's a new trick, formula, theorem, and Reasoning updates related to mathematics. AtStudy से टेक्नोलॉजी, सामान्य ज्ञान, गणित, आदि जैसे जानकारी आसानी से ले सकते हैं। यहाँ पर हमेशा देश व विदेशों के चर्चित जानकारी अपडेट होती रहती हैं। और यहाँ गणित से सम्बंधित जैसे नया ट्रिक और रीजनिंग अपडेट होती रहती है।

Aug 24, 2018

वित्तीय साक्षरता

वित्तीय साक्षरता

वित्तीय साक्षरता का अर्थ है:- “वित्त को समझने की क्षमता”। दूसरे शब्दों में इसका मतलब किसी व्यक्ति में मौजूद कुछ कौशलों तथा ज्ञान से है जिन के बल पर वह सोच समझकर प्रभावशाली निर्णय ले पाता है। विभिन्न देशों में वित्तीय साक्षरता की स्थिति अलग अलग है। 
           “वित्तीय शिक्षा” का अर्थ होता है धन के बारे में सही जानकारी प्राप्त करना, जिसमें हम अपने धन का सही प्रबंध करते हुए, अपने वित्तीय भविष्य को सुरक्षित एवं बेहतर बना सकें । 
             "वित्तीय शिक्षा" की आवश्यकता इसलिए है क्योंकि अब समय बदल चुका है, अमीर और अमीर होता जा रहा है किंतु मध्यम वर्ग और गरीब होता जा रहा है, हमारी वित्तीय समस्याएं और बढ़ती जा रही है किंतु कहीं भी इस समस्या का कोई समाधान नजर नहीं आ रहा है। सिर्फ यही नहीं "वित्तीय समस्या " के कारण ही समाज में 'गरीबी', 'घरेलू हिंसा' एवं 'भ्रष्टाचार' आदि सामाजिक समस्याएं भयानक रूप लेती जा रही है, जिससे हमारा जीवन अस्त-व्यस्त होता जा रहा है।

"वित्तीय शिक्षा" से लाभ 
         "वित्तीय शिक्षा" से हमारे विचारों में वदलाव आएगा जिससे हमारे काम बदल जायेंगे, और जब हमारे काम बदल जायेंगे तब हमारे 'परिणाम' भी बदल जायेंगे।क्योंकि हम एक ही काम को बार बार करते हैं और हर बार अलग परिणाम की अपेक्षा करते रहते हैं किंतु हमारे 'परिणाम' नहीं बदलते है। अतः यदि हमें अपने जिंदगी के परिणाम बदलने है हमें काम बदलने होंगे और काम तभी बदलेंगे जब हमारे विचार बदलेंगे। इस तरह जब हमारे वित्तीय विचार में बदलाव आएगा तब समाज में भी वित्तीय बदलाव आएगा और जब हमारा समाज वित्तीय रूप से प्रशिक्षित होगा तब हमारा देश भी वित्तीय रूप से मजबूत हो जायेगा वित्तीय समस्या कि नहीं "वित्तीय-समाधान" की स्थिति निर्मित हो जाएगी जो कि सिर्फ और सिर्फ "वित्तीय शिक्षा" से ही संभव है। 

बहुत से सफल लोगों ने स्कूल या कॉलेज की डिग्री हासिल किए बिना पढ़ाई अधूरी छोड़ दी थी जैसे जनरल इलेक्ट्रिक के संस्थापक थॉमस एडिसन, फोर्ड मोटर कंपनी के संस्थापक हेनरी फोर्ड , माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक बिल गेट्स, सी. एन. एन. के संस्थापक टेड टर्नर।, Dell कंप्यूटर के संस्थापक माइकल डेल, एप्पल कंप्यूटर के संस्थापक स्टीव जॉब्स और पोलो के संस्थापक राल्फ लॉरेन। पारंपरिक व्यवसाय के लिए कॉलेज की शिक्षा महत्वपूर्ण है, परंतु उन कामों के लिए नहीं जिनसे लोगों ने प्रचुर दौलत कमाई है। 

         तो इसके लिए किस चीज की जरूरत होती है ? 
        मुझे अक्सर पूछा जाता है, "अगर धन कमाने के लिए धन की जरूरत नहीं होती और अगर स्कूल-कॉलेज आपको यह नहीं सिखाते की आर्थिक रूप से स्वतंत्र कैसे बना जाता है तो इसके लिए किस चीज की जरूरत होती है?" 
        मेरा जवाब है : इसके लिए एक सपने, दृढ़ संकल्प, जल्दी सीखने की इच्छा और ईश्वर द्वारा दी गई नियमों का उचित प्रयोग करने की योग्यता की जरूरत होती है और यह जानने की कि किस आमदनी कैश-फ्लो क्वाड्रेंट की किस हिस्से से आ रही है। 

              कैश-फ्लो क्वाड्रेंट क्या है? 

नीचे दिया गया चित्र कैश-फ्लो क्वाड्रेंट है . 




क्वाड्रेंट के अक्षरों का अर्थ:

          E:- Employee (कर्मचारी)
          S:- self employee(स्वयं कर्मचारी)
          B:- Business owner(व्यवसाय के मालिक)
          I:- Investor(निवेशक)
            
आपको किस क्वाड्रेंट से आमदनी होती है?
         एक कर्मचारी नौकरी करके या नहीं किसी दूसरे व्यक्ति या कंपनी के लिए काम करके धन कमाता है सिर्फ इंपलाई लोग खुद के लिए काम करके पैसे कमाते हैं बिजनेस का मालिक धन प्रदान करने वाले बिजनेस का स्वामी होता है और निवेशक अपने निवेशकों से धन कमाते हैं। दूसरे शब्दों में वह अपने धन से और अधिक धन उत्पन्न करते हैं।

            आमदनी पैदा करने के विभिन्न तरीकों के लिए अलग-अलग मानसिकता, तकनीकी योग्यता, शैक्षणिक राहों और अलग-अलग तरह के लोगों की जरूरत होती हैं। अलग-अलग तरह के लोग अलग-अलग क्वाड्रेंट प्रति आकर्षित होते हैं।
            क्वाड्रेंट के दाएं हिस्से में सफल होने के लिए बहुत सी योग्यताएं अनिवार्य होती है, जो स्कूल कॉलेज में नहीं सिखाई जाती। स्मार्ट लोगों को एकत्रित करना और उनके टीम के रूप में काम करवाना उनकी मूलभूत योग्यताओं में से एक है। अगर आप लोग लीडर बनना चाहते हो तो आप को शब्दों के प्रयोग में निपुण होना चाहिए।
           

"बी" के रूप में सफल होने के लिए दो चीजों की जरूरत होती है।

        1. सिस्टम का नियंत्रण। और

        2. लोगों का नेतृत्व करने की योग्यता।
"I" (निवेशक)। निवेशक पैसे से पैसा कमाते हैं। उन्हें काम करने की जरूरत नहीं होती, क्योंकि उनका पैसा उनके लिए काम करता है। I क्वाड्रेंट अमीरों के खेलने का मैदान है इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि लोग अपना पैसा किस क्वाड्रेंट से कमाते हैं। अगर वें अमीर बनना चाहते हैं तो उन्हें अंततः “आई” क्वाड्रेंट में आना ही पड़ेगा। “आई” क्वाड्रेंट में ही धन दौलत में बदलता है । 

हम में से ज्यादातर ने सुना है कि अमीरी एक प्रचुर दौलत के रहस्य है: 

             1. ओ. पी. टी.- दूसरे लोगों का समय (Other People's Time) 

              2. ओ. पी. एम.- दूसरे लोगों का धन (Other People's Money) 

सफल बनने के लिए आपको रिजेक्शन और ( अस्वीकृति ) के डर से मुक्त पाना सीखना होगा। आपको इस बारे में चिंता करना छोड़ना होगा कि आप लोग आपके बारे में क्या कहेंगे। 

          लोगों का नेतृत्व करना सीखना। अलग अलग तरह के लोगों के साथ काम करना बिजनेस की सबसे मुश्किल चीज है। मैं बिजनेस के जितने भी सफल लोगों से मिलता हूं, वह स्वाभाविक लीडर थे। लोगों के साथ मिलकर काम करने और उन्हें प्रेरित करने की योग्यता अनमोल है। यह एक ऐसी योग्यता है, जो सीखी जा सकती है। 

          जैसा मैंने पहले कहा था बाय क्वाड्रेंट से दाएं क्वाड्रेंट में पहुंचने का संबंध इस बात से उतना नहीं है कि आप क्या करते हैं, बल्कि इस बात से है कि आप क्या बनना चाहते हैं। रिजेक्शन का सामना करना सीखे। यह सीखे कि दूसरे लोग आपके बारे में क्या सोचते हैं, उससे प्रभावित नहीं होना है। इसके अलावा लोगों का नेतृत्व करना सीखें। अगर आप यह सीख लेंगे तो आपके दौलत निश्चित रूप से मिलेगी। अगर आप दीर्घकालीन "बी" बनने के लिए खुद को तैयार करना चाहते हैं, तो सिस्टम, आजीवन शिक्षा, और लोग अधिक महत्वपूर्ण हैं। 

           फ्रेंचाइजी और नेटवर्क मार्केटिंग में अपना सिस्टम बनाने की मुश्किल को आसान कर दिया है। आप एक आजमाए हुए सिस्टम के अधिकार हासिल करते हैं। इसके बाद आपके पास सिर्फ एक ही काम बचा है: लोगों को विकसित करना। 
        इस बिजनेस सिस्टमों को उस सेतु के रूप में देखें, जिससे आप कैसे फलों को अर्जेंट के बाएं हिस्से से दाएं हिस्से तक सुरक्षित तरीके से पहुंच सकें यह वित्तीय स्वतंत्रता का आपका सेतु होगा। असली मुद्दा है आप में होने वाले आतंरिक परिवर्तन और प्रक्रिया के दौरान आपके अस्तित्व में परिवर्तन। कुछ लोगों को प्रक्रिया आसान दिखती है, जबकि कुछ कोई यात्रा असंभव लगती है।
         आप अपने सपने को जिंदा रखने के बजाय अपने जिंदा रहने के बारे में ज्यादा चिंतित हो। आप के डर ने आप की प्रबल भावना को दरकिनार कर दिया है। आगे बढ़ते रहने का सर्वश्रेस्ठ तरीका यह है कि अपने दिल में लॉ को हमेशा जलाए रखो। हमेशा याद रखें कि आपका लक्ष्य क्या है और आपको किस इरादे से शुरू किया था। जब आप ऐसा करेंगे तो आपकी राह आसान हो जाएगी। परंतु अगर आप अपने बारे में ज्यादा चिंता रहोगे तो आपका डर आपकी आत्मा को कमजोर करने लगेगा बिजनेस डर से नहीं प्रबल भावना से बनते हैं। अमीर बनने के लिए सिर्फ सामान्य ज्ञान (common sense) की जरूरत होती है परंतु दुर्भाग्य से सामान्य ज्ञान सामान्य नहीं है।
होना-करना-पाना।


क्वाड्रेंट के बाएं हिस्से से दाएं हिस्से में कदम बढ़ाना “करने” के बारे में नहीं बल्कि “होने” के बारे में हैं। "बी" आर "आई" क्या करते हैं, उससे ज्यादा फर्क नहीं पड़ता। फर्क तो इस बात से पड़ता है कि वह किस तरह "सोचते" हैं। उनके "होने" या "अस्तित्व" के केंद्र में क्या है? 

            मैंने "पाना-करना-पाना" फार्मूले के "होने" वाले हिस्से पर ध्यान केंद्रित किया है, क्योंकि उचित मानसिकता और नजरिए के बिना आप उन विराट आर्थिक परिवर्तनों के लिए तैयार नहीं हो सकते, जो आज हमारे सामने हैं। क्वाड्रेंट के दाएं हिस्से की योग्यताओं और मानसिकता वाला व्यक्ति "होने" से आप इस परिवर्तनों से उत्पन्न होने वाले अवसरों को पहचानने के लिए तैयार रहेंगे। इसके साथ ही आप इस तरह कार्य "करने" के लिए भी तैयार रहेंगे, जिससे आप वित्तीय सफलता पा लेंगे।

*************************



No comments:

Post a Comment