With the help of AtStudy, information such as technology, general knowledge, math, how to, etc. can be easily taken. The information of the country and abroad is always updated here. And here's a new trick, formula, theorem, and Reasoning updates related to mathematics. AtStudy से टेक्नोलॉजी, सामान्य ज्ञान, गणित, आदि जैसे जानकारी आसानी से ले सकते हैं। यहाँ पर हमेशा देश व विदेशों के चर्चित जानकारी अपडेट होती रहती हैं। और यहाँ गणित से सम्बंधित जैसे नया ट्रिक और रीजनिंग अपडेट होती रहती है।

Aug 26, 2018

सोच वित्तीय साक्षरता का


सोच वित्तीय साक्षरता का 

  •  पैसा एक तरह की ताकत है, परंतु इससे भी बड़ी ताकत है वित्तीय शिक्षा। 
  •  शानदार कार और आलीशान बंगले के होने का यह मतलब नहीं होता कि आप निश्चित रूप से अमीर है या आप पैसा बनाने की कला जानते हैं। 
  •  लोगों के वित्तीय संघर्ष का मुख्य कारण है यह कि उन्हेंनें स्कूल में कई साल गुजारने के बाद भी पैसे के बारे में कुछ नहीं सिखा। इसका नतीजा यह होता है कि वह पैसे एवं सिस्टम के लिए काम करना तो सीख जाते हैं, लेकिन यह कभी नहीं सीख पाते कि पैसा एवं सिस्टम उनके लिए किस तरह काम कर सकता है। 
  •  समय के साथ चलिए ! अपने चारों तरफ देखिए। सबसे अमीर लोग अपनी शिक्षा के कारण इतने अमीर नहीं बने हैं। बिल गेट्स, थॉमस एडिसन, हेनरी फोर्ड, धीरूभाई अंबानी इत्यादि। 
  •  35 साल पहले पैदा हुए यह खुशहाल दंपति अब अपनी नौकरी के बाकी दिन चूहा दौड़ में फंसकर बिताते हैं वह अपनी कंपनी के मालिक के लिए काम करते हैं, सरकार के टैक्स चुकाने के लिए काम करते हैं और बैंक में अपनी गिरवी संपत्ति तथा क्रेडिट कार्ड के कर्ज को चुकाने के लिए काम करते हैं। फिर भी वह अपने बच्चों को यह सलाह देते हैं कि उन्हें मन लगाकर पढ़ना चाहिए, अच्छे नंबर लाने चाहिए और किसी सुरक्षित नौकरी की तलाश करनी चाहिए। वे पैसे के बारे में कुछ भी नहीं सिखाते और इसलिए हुए जिंदगी भर कड़ी मेहनत करते रहते हैं। यह प्रक्रिया पीढ़ी-दर-पीढ़ी चलती रहती है। इसे "चूहा दौड़" कहते हैं। "चूहा दौड़" से निकलने का एक ही तरीका है और वह है कि आप वित्तीय शिक्षा से निपुण हो जाए। 
  • धन दौलत का विषय स्कूल में नहीं, बल्कि घर पर पढ़ाया जाता है। शायद इसलिए अमीर लोग और ज्यादा अमीर होते जाते हैं, जबकि गरीब और ज्यादा गरीब होते जाते हैं और मध्यम वर्ग कर्ज में डूबा रहता है। हममें से ज्यादातर लोग पैसे के बारे में अपने माता पिता से सीखते हैं। कोई गरीब पिता अपने बच्चे को पैसे के बारे में क्या सिखा सकता है? वह सिर्फ इतना ही कह सकता है "स्कूल जाओ और मेहनत से पढ़ो" हो सकता है वह बच्चा अच्छे नंबरों से कॉलेज की पढ़ाई पूरा कर ले, फिर भी वह पैसे के मामले में उसकी मानसिकता और उसका सोच का ढंग एक गरीब आदमी जैसा ही बना रहेगा। 
  • गरीब होने और पैसा ना होने में फर्क होता है, पैसा पास में ना होना अस्थाई होता है, जबकि गरीबी स्थाई है। 
  • अगर आपमें तत्काल फैसला करने की क्षमता नहीं है, तो आप कभी पैसे कमाना नहीं सीख पाएंगे। मौके आते हैं और चले जाते हैं, इसलिए तत्काल निर्णय लेने की क्षमता एक महत्वपूर्ण कला है। 
  • रिटायरमेंट का यह मतलब नहीं है कि हम काम नहीं करते हैं या आगे काम नहीं करेंगे। इसका मतलब यह है कि जब तक कोई चमत्कार ही ना हो जाए, तब तक हम काम करने या ना करने के लिए आजाद है। इसका कारण यह है कि हमारी दौलत और आय अपने आप बढ़ती रहती है, मुद्रास्फीति की दर से कहीं ज्यादा तेज रफ्तार से। मुझे लगता है कि आजादी इसी को कहते हैं। 
  •  आपको को संपत्ति और दायित्व का अंतर पता होना चाहिए, और हमेशा संपत्ति ही खरीदनी चाहिए। अगर आप अमीर बनना चाहते हैं, तो आपको बस इतना ही जाने की जरूरत है। यह पहला नियम है, यह इकलौता नियम है। 
  •  अमीर लोग संपत्ति इकट्ठा करते है। गरीब और मध्यम वर्गीय लोग दायित्व इकट्ठे करते हैं, और मजे की बात यह है कि उन लोगों को यह लगता है कि वह संपत्ति इकट्ठा कर रहे हैं। 
  • संपत्ति वह चीज है, जो मेरी जेब में पैसे डालती है। दायित्व वह चीज है, जो मेरी जेब से पैसे निकालती है। 
  • ऐसा कहा जाता है, कि ज्यादातर लोगों के लिए मौत से भी डरावनी चीज होती है भीड़ के सामने बोलने का डर। 
  • जो चीज हम सभी को पीछे धकेलती है, वह है खुद के बारे में संका। 
  • शैक्षणिक माहौल के बाहर असली जिंदगी में अच्छे नंबरों से ज्यादा महत्वपूर्ण चीज की जरूरत होती है। इसे "गट्स", "बहादुरी", "चावलाकी", "साहस", "निरंतरता", "प्रतिभा" "जोखिम लेने की क्षमता" इत्यादि के नाम से पुकारा जाता है। 
  • हमारे पास जो एक एकलौती सबसे शक्तिशाली पूंजी है वह 'हमारा दिमाग' . अगर इसे अच्छी तरह प्रशिक्षित कर दिया जाए तो यह एक पल में ढेर सारी दौलत बना सकता है। 
  •  जब मैं अपनी कक्षा से पूछता हूं, "आप में से कितने मैकडोनाल्ड से अच्छा हैमबर्गर बना लेते हैं?", तो लगभग सभी विद्यार्थी अपने हाथ खड़े कर देते हैं, और फिर पूछता हूं "अगर आप में से ज्यादातर बेहतर हैमबर्गर बना लेते हैं तो ऐसा क्यों होता है कि मैकडोनाल्ड आपसे ज्यादा पैसा बना लेता है?" जवाब साफ है: मैकडोनाल्ड बिजनेस सिस्टम में आप से अच्छा है। ज्यादातर प्रतिभाशाली लोग सिर्फ इसलिए गरीब होते हैं क्योंकि वह अपना सारा ध्यान बेहतर हैमबर्गर बनाने में लगाते हैं और बिजनेस सिस्टम के बारे में कुछ नहीं जानते। 
  • च्छे सीखने वाले, बेचने वाले और मार्केटिंग करने वाले व्यक्ति होने के अलावा हमें अच्छे शिक्षक और अच्छे विद्यार्थी होने की भी जरूरत है। 
  • बिना हमदार, कारण या लक्ष्य के जिंदगी में हर चीज कठिन होती है। 
  •  हम अपने समय, अपने पैसे और अपनी शिक्षा के साथ हर दिन क्या करते हैं ? 
  • पहले शिक्षा में निवेश करें:- वास्तव में आपके पास एक इकलौती असली संपत्ति है वह है आपका दिमाग, जो आप का सबसे शक्तिशाली यंत्र है। यह प्रयाप्त बड़े हो जाने के बाद हम में से हर एक के पास यह विकल्प मौजूद होता है कि हम अपने दिमाग में क्या रखते हैं। 90% लोग TV सेट खरीदते हैं और केवल 10% लोग बिजनेस पर पुस्तकें या निवेश पर टेप खरीदते हैं। 
  • खुद पर अनुशासन की कमी ही वह सबसे बड़ा कारण है जो लोगों को 3 समुदाय में बाटती है, अमीर, गरीब और मध्यम वर्ग। 
  • खुद को पैसा देने में पहला नियम यह है कि कभी कर्ज में मत फंसो। 
  • आदर्श नायकों की नकल करना ज्ञान प्राप्त करने का सच्चा और सशक्त तरीका है। आदर्श नायक होने से हम अपनी कच्ची प्रतिभा के वृहद स्त्रोत का दोहन करते हैं। 
  • आप जो कर रहे हैं वह करना बंद कर दें। दूसरे शब्दों में अवकाश लें और यह आकलन करें कि कौन सी चीज काम आ रही है, और कौन सी चीज काम नहीं आ रही है। 
  • सक्रियता हमेशा निष्क्रियता को हरा देती है। 
  • पैसे के बारे में शिक्षा और बुद्धि महत्वपूर्ण है। 
  • आर्थिक स्वतंत्रता की कुंजी- किसी व्यक्ति की अपनी अर्जित आय को निष्क्रिय आय और/ या पोर्टफोलियो आय में बदलने की दक्षता का योग्यता है। 
  • आप सभी को दो महान उपहार दिए गए हैं आपका दिमाग और आपका समय। यह आपके हाथ में है कि आप इनका मनचाहा उपयोग कर सकते हैं। आपके हाथ में आने वाला हर "रुपैया" से आपको और केवल आपको वह ताकत मिल जाती है जो आपकी तकदीर बनाती या बिगाड़ती है। अगर आप इसे मुर्खतावूर्ण तरीके से खर्च करते हैं तो आप गरीब रहने का विकल्प चुनते हैं, अगर आप इसे दायित्व पर खर्च करते हैं तो आप मध्यम वर्ग में रहने का विकल्प चुनते हैं, और अगर आप इसे दिमाग में निवेश करते हैं, और यह सीख लेते हैं कि किस तरह संपत्ति को बनाया जाता है तो आप दौलतमंद होने का विकल्प चुनते हैं। चुनाव आपका है और केवल आपका। हर दिन हर रुपैया के साथ आप अमीर गरीब या मध्यम वर्गीय होने का विकल्प चुनते हैं। 
**********************

No comments:

Post a Comment